Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana Gujarat 2021: Kharif, Online Application Form, Farmer Registration

Kisan Sahay Yojana Gujarat 2021| गुजरात मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म | किसान सही योजना ऑनलाइन आवेदन | Kisan Sahay Yojana Online Apply, Status Check

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना की शुरुआत गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी के द्वारा 10 अगस्त 2020 को की गयी है. इस योजना के तहत राज्य के किसानों की फसलों को प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई राज्य सरकार द्वारा की जाएगी. इस पोस्ट में हम इस योजना के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से जानने वाले हैं. जिससे गुजरात के किसान इस योजना का लाभ आसानी से उठा पाए. अतः इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़े ताकि आपको इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिल सके.

हमारे देश में किसानों को प्राकृतिक आपदा के कारण हर साल नुकसान उठाना पड़ता है. आप सभी जानते होंगे की कभी किसानों को सूखे का सामना तो कभी अत्यधिक बरसात का सामना करना पड़ता है. जिसके कारण देश के किसानों को काफी नुकसान होता है. इसी को देखते हुए गुजरात सरकार ने “मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना” की शुरुआत की है, जो इस वर्ष के लिए प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना (PMFBY) की जगह लेगी.

इस लेख में हम किसान सही योजना के बारे में जानने वाले हैं. हम इस योजना के बारे में सभी जानकारी निचे आपको बताने वाले हैं. अगर आप गुजरात के रहने वाले हैं तो इस योजना के बारे में जानना आपके लिए बहुत जरुरी है. हमने निचे इसके बारे में पूरी जानकारी विस्तार से बताया हुआ है. आप निचे दी गयी जानकारी को पढ़कर इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हो या इस योजना का लाभ उठा सकते हो..

News Update:

  • गुजरात के मुख्यमंत्री ने चालू खरीफ सीजन के लिए मुखिया किसान सहाय योजना की घोषणा की
  • श्री रूपानी ने कहा कि राज्य सरकार को मौजूदा कृषि सीजन के लिए फसल बीमा का रु .700 करोड़ का प्रीमियम देना पड़ा।
  • निर्धारित पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करने के लिए किसानों को ग्रामीण स्तर के ई-ग्राम केंद्र पर जाना होगा। इस केंद्र को 8 रुपये प्रति सफल आवेदन का भुगतान किया जाएगा।

Gujarat Kisan Sahay Yojana 2021

Kisan Sahay Yojana 2020 Gujarat
Kisan Sahay Yojana 2020 Gujarat

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी जी ने 10 अगस्त 2020 को किसान सहाय योजना की घोषणा की है. जैसा की आपको इसके नाम से ही पता चल रहा होगा की इस योजना की शुरुआत किसानों की प्राकृतिक आपदा से सहायता करने के लिए शुरू किया गया है. यह योजना केंद्र सरकार की फसल बिमा योजना से अलग किसानों को इस खरीफ सत्र में सूखे, अधिक या बेमौसम बरसात जैसे प्राकृतिक आपदा से सुरक्षा पाने के लिए शुरू किया गया है. इसके तहत किसानो को किसी भी प्रीमियम का भुगतान भी नही करना होगा. इस योजना से राज्य के 56 लाख किसानों को फायदा होने वाला है. इस योजना के तहत भुगतान किये गये मुआवजे के अलावा, किसान प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल के नुकसान के मामले में राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष के तहत अतिरिक्त मुआवजा पाने के लिए भी पात्र होंगे.

Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana Overview

योजना का नाममुख्यमंत्री किसान सहाय योजना
शुरू किया गयामुख्यमंत्री विजय रुपानी द्वारा
राज्यगुजरात
लाभार्थीराज्य के किसान
शुरू करने की तिथि10 अगस्त 2020
उद्देश्यकिसानों को प्राकृतिक आपदा में मुआवजा प्रदान करना
आवेदन का तरीकाऑनलाइन
अधिकारिक वेबसाइटअभी उपलब्ध नही

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना का उद्देश्य

किसान मेहनत से अपने खेत में फसल उगाते हैं लेकिन हर साल प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है. देश के हर क्षेत्र के किसानों को प्राकृतिक आपदा का सामना करना पड़ता है. कभी सुखा के कारण तो कभी अत्यधिक बरसात के कारण किसानों का फसल बर्बाद हो जाता है. इसी को देखते हुए गुजरात सरकार ने किसान सहाय योजना की शुरुआत की है. इससे पहले केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना की शुरुआत भी की थी. जिसके तहत किसानों को प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता था और उसमे भी किसानों को आपदा का मुआवजा प्रदान किया जाता है. लेकिन गुजरात सरकार ने किसान सहाय योजना की शुरुआत राज्य के किसानों को प्राकृतिक जोखिमों से सुरक्षा के लिए की है. इस योजना के ताहत किसानों को किसी तरह का प्रीमियम की भुगतान करने की आवश्यकता नही है.

Kisan Sahay Yojana की विशेषताएँ:

  • इस योजना के तहत, राज्य के पात्र किसानों को इस वर्ष किसी भी प्राकृतिक जोखिम और अपर्याप्त वर्षा से सुरक्षा पाने के लिए किसी भी प्रीमियम का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।
  • मुख्यमंत्री किसान सहायता योजना इस वर्ष के लिए पहले से मौजूद मौजूदा प्रधानमंत्री आवास योजना (PMFBY) की जगह लेती है
  • नुकसान की तीव्रता 33 से 66% के बीच होने पर किसान को अधिकतम 4 हेक्टेयर फसल के लिए 20,000 रुपए का मुआवजा मिलेगा।
  • यदि फसल की क्षति की गंभीरता 60% से अधिक है, तो किसान को प्रति हेक्टेयर 25,000 रुपये का मुआवजा अधिकतम 4 हेक्टेयर तक मिलेगा।
  • यह योजना किसानों के हितों की रक्षा करने वाली जीरो प्रीमियम की है
  • हालांकि, इस फसल बीमा योजना के तहत किसानों को मुआवजा दिया जाएगा यदि सूखा और आपदाओं के कारण नुकसान 33% से अधिक है।

गुजरात किसान सहाय योजना 2020 के लाभ:

  • किसान बिना कोई प्रीमियम चुकाए फसल बीमा योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • इस फसल बीमा योजना का लाभ आदिवासी किसान भी उठा सकते हैं।
  • इस योजना के तहत किसानों को अधिकतम 25,000 रुपए का फसल बीमा मिलेगा।
  • खरीफ मौसम में यह किसानों के लिए एक बड़ी राहत है, जहाँ अनियमित वर्षा के कारण फसलों को नुकसान होने की संभावना है।
  • राज्य सरकार द्वारा प्रदान की गई फसल बीमा के अलावा, किसान राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष से भी फसल बीमा कवरेज का लाभ उठा सकते हैं ।

किसान सहाय योजना के लिए पात्रता एवं दस्तावेज:

  • आवेदक किसान गुजरात का स्थायी निवासी होना चाहिए.
  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

प्रमुख लाभ:

  1. 33% से 60% की हानि के लिए सहायता:  रु। 20,000 प्रति हेक्टेयर।
  2. 60% से अधिक की हानि के लिए सहायता:  रु। 25,000 प्रति हेक्टेयर।
  3. अधिकतम 4 हेक्टेयर तक सहायता राशि का भुगतान किया जाएगा।

मुआवजा की राशि और उसकि शर्त:

  • एक किसान अधिकतम चार हेक्टेयर भूमि के मुआवजे के लिए पात्र है।
  • जिन किसानों ने इस खरीफ (मानसून) के मौसम में फसल बोई थी उन्हें इस योजना के तहत लाभ मिलेगा।
  • 33 प्रतिशत से 66 प्रतिशत के बीच फसल के नुकसान के लिए, एक किसान को अधिकतम चार हेक्टेयर के लिए प्रति हेक्टेयर 20,000 रुपये का मुआवजा मिलेगा।
  • राज्य सरकार ने पहले ही फसल बीमा प्रीमियम का भुगतान करने के लिए 1,800 करोड़ रुपये अलग रखे थे, अब इस धन का उपयोग इस योजना के लिए किया जाएगा।
  • सूखा या अधिक बारिश या बेमौसम बारिश के कारण फसल का नुकसान 33 प्रतिशत से अधिक होने पर ही मुआवजा दिया जाएगा।
  • 60 प्रतिशत से अधिक की फसल हानि, एक किसान को अधिकतम चार हेक्टेयर के लिए 25,000 रुपये प्रति हेक्टेयर मिलेगा।

किसान सहाय के लिए सूची तैयार करने की प्रक्रिया:

  • किसान सहाय योजना के अंतर्गत आने वाले लाभार्थियों की सूची राज्य सरकार के राजस्व विभाग द्वारा तैयार की जाएगी. इन लाभार्थियों की सूची निम्न प्रक्रिया के माध्यम से तैयार की जाएगी.
  • इसके लिए सबसे पहले डीसी (जिला कलेक्टर) गांवों / तालुका में उन सभों की सूची तैयार करेंगे जिनकी फसलें सूखे, भारी वर्षा, या अन्य आपदा के कारण छतिग्रस्त हो गयी है.
  • उसके बाद इस सूची को 7 दिनों के भीतर राजस्व विभाग के पास भेजा जायेगा.
  • अब अगले चरण में, एक विशेष सर्वेक्षण टीम 15 दिनों के भीतर फसलों को नुकसान की समीक्षा करेगी.
  • छाती सर्वेक्षण पूरा होने के बाद, जिला विकास अधिकारी द्वारा हस्ताक्षरित आदेश द्वारा लाभार्थी किसानों की सूची की घोषणा की जाएगी.
  • यह लाभार्थी सूची दो प्रकार की होगी 33% से 60% के बिच और 60% से अधिक हानि |
  • फिर लाभार्थी को मुआवजा दिया जायेगा.

Kisan Sahay Yojana Online Apply Procedure

मुख्मंत्री किसान सहाय योजना ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया

योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए, लाभार्थी किसानों को ई-ग्राम केंद्र पर जाना होगा और योजना पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

आवेदन स्वीकृत होने के बाद, स्वीकृत सहायता का भुगतान लाभार्थी किसानों के बैंक खाते में सीधे DBT के माध्यम से किया जाएगा।

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

  • इसके लिए आपको सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana अर्थात https://www.vijayrupani.in/ पर जाना होगा.
  • अब आपके सामने होमपेज आ जायेगा. यहाँ पर, आपको “ऑनलाइन आवेदन करें” विकल्प पर क्लिक करना होगा.
  • अब आपके सामने एप्लीकेशन फॉर्म आ जायेगा. यहाँ आपको सभी डिटेल्स भरना होगा.
  • साथ ही आपको सम्बन्धित दस्तावेजों को भी अपलोड कर देना होगा.
  • फिर आपको एप्लीकेशन फॉर्म को सबमिट कर देना होगा. इस प्रकार से आप योजना के लिए आवेदन कर पायेंगे.
Share on:

Leave a Comment